Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi: खजुराहो मध्य प्रदेश की एक बहुत ही प्रचलित जगह है. इसके इतने प्रचलित होने का कारण है, यहाँ के मंदिर. झाँसी से करीब 175 km दूर हिन्दुओं और जैन मंदिरों का समूह है, जो खजुराहो समूह के नाम से प्रचलित है और यह UNESCO World Heritage Site में listed है.Khajuraho Ka Mandirइसे भी पढ़े: भारत की सबसे डरावनी जगह – भानगढ़ किला

Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

अधिकतर खजुराहो के मंदिरों(Khajuraho ka Mandir) का निर्माण वर्ष 950 और 1050 में चंदेला साम्राज्य में हुआ था. इतिहासकारों के अनुसार 12वीं शताब्दी में करीब 85 मंदिर थे और करीब 20 km वर्ग के दायरे में फैले हुए थे. परन्तु प्राकृतिक आपदाओं के कारण अब केवल 20 मंदिर ही बचे हैं और कुल 6 km तक ही फैले हुए हैं. इन सभी मंदिरों में से कंदरिया मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है.

खजुराहो का मंदिर का रहस्य. क्यों हैं इतने प्रसिद्ध यह मंदिर?

Khajuraho Ka Mandir(Khajuraho Temple) अपनी अद्दभुत कलाकृतियों तथा कामोत्तेजक मोर्तियों के लिए विश्व प्रसिद्ध है. खजुराहो का मंदिर में शिल्पकला का ऐसा प्रदर्शन किया गया है कि कोई भी व्यक्ति देख कर हैरान हो जायेगा की आखिर ऐसी शिल्पकला इस ढंग से कोण प्रदर्शित कर सकता है.

मूर्तियाँ ही नहीं बल्कि पूरे मंदिर में कलात्मक कार्य देखने को मिलता है. Khajuraho ka Mandir के अंदर और बाहरी भागों पर करीब दस प्रतिशत कार्य कामोत्तेजक कलाकृतियों का किया गया है. मंदिरों की लम्बी लम्बी दीवारों पर भी छोटी छोटी कामोत्तेजक कलाकृतियां बनायीं गयी है.

Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

परन्तु अकल्पनीय शिल्पकला और कामोत्तेजक मूर्तिकला होने के साथ सभी के मन में एक प्रश्न है की आखिर ऐसी मूर्तियाँ किसने और क्यों बनायीं हैं. कुछ विद्वानों का मानना है कि यह कामोत्तेजक मूर्तियाँ या कामुक कला हिन्दू परंपरा का ही भाग है जो मनुष्य के लिए जरुरी है. तथा कुछ विद्वानों का मानना है कि प्राचीन काल में यहाँ पर कामुकता का अभ्यास हुआ करता था.

खजुराहो के मंदिरों की ख़ास बात यह है कि इन मूर्तिओं के द्वारा जो कामुक कला के आसन यहाँ दर्शाए गए हैं. स्त्री और पुरुषों की मूर्तिओं के मुख पर एक अलौकिक आनंद दिखाई देता है, और उनको देखकर किसी प्रकार की अश्लीलता का भाव नहीं आता. देखने में यह मंदिर और इनी शिल्पकला और कामोत्तेजक मूर्ती कला इतनी भव्य और प्रभावशाली है कि खजुराहो का मंदिर को विश्व धरोहर में शामिल किया गया है.

Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

अंततः प्रश्न यही उठता है कि ऐसी विचित्र शिल्पकला और ऐसी कामोत्तेजक मूर्तियाँ बनाने का क्या कारण रहा होगा और किसने इन्हें बनवाया होगा? यह तो अभी तक रहस्य है.

खजुराहो का मंदिर की कुछ रोचक जानकारियां Facts About Khajuraho Temple in Hindi

  • खजुराहो मध्यप्रदेश का एक बहुत ही प्रसिद्ध शहर है, जो विशेष कलाकृति वाली मूर्तियों के लिए विश्व विख्यात है.
  • इस मंदिर की संरचना बहुत ही जटिल है.
  • Khajuraho ka mandir का नाम खजूर के पेड़ के नाम पर खजुराहो पड़ा.
  • खजुराहो के मंदिर हिन्दू और जैन धर्म को प्रदर्शित करता है.
  • करीब एक हजार वर्ष पूर्व खजुराहो चंदेल राजा की राजधानी हुआ करती थी.
  • चंदेल साम्राज्य के समय में करीब 950 aur 1050 में खजुराहो के मंदिर का निर्माण किया गया था.

Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

  • खजुराहो का मंदिर को 20वीं शताब्दी में पुनः खोजा गया.
  • Khajuraho Ka Mandir की दीवोरों और पत्थरों पर कामोत्तेजक शिल्प्कलाये बनायीं गयीं हैं.
  • UNESCO ने 1986 में खजुराहो को विश्व धरोहर में सम्मलित कर लिया था.
  • प्राचीन काल में खजुराहो में 85 मंदिर हुआ करते थे परन्तु प्राकृतिक आपदाओं के कारण आज इन मंदिरों की संख्या 22 रह गयी है.
  • इस मंदिर में भगवान ब्रम्हा, विष्णु, महेश तीनो देवों की मूर्तियाँ हैं.

Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

  • खजुराहो का एक मंदिर करीब 107 फुट ऊंचा है जिसका नाम है कंदरिया महादेव मंदिर. यह अन्य सभी मंदिरों से अधिक प्रसिद्द है.
  • Khajuraho Ka Mandir के अन्दर 246 तथा बाहर 646 कलाकृतियाँ है, जो अधिकतर कामुकता को प्रदर्शित करती हैं.
  • 13वीं शताब्दी से 18वीं शताब्दी तक खजुराहो मंदिर मुस्लिम शासकों के नियंत्रण में था.
  • अब इसकी देख रेख UNESCO के हाथ में है, तथा भारतीय पुरातत्व विभाग भी इसके संरक्षण में अपना पूरा सहयोग दे रहा है.

आपको खजुराहो का मंदिर की ये कहानी जानकर कैसा लगा हमें जरुर बताये. Khajuraho Ka Mandir का इतिहास Khajuraho Temple History in Hindi

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *