Kalyug Ka Ant Kab Hoga in Hindi | Kalyug History in Hindi

Kalyug Ka Ant Kab Hoga in Hindi:- दोस्तों! आज इस पोस्ट के जरिये जानेंगे की कलयुग का अंत कैसे होगा(End of Kali Yuga Signs). दोस्तों ये तो सभी जानते होंगे की कलयुग(Kalyug) में पाप, अधर्म, अनैतिकता, हिंसा जैसे तत्वों का राज होगा, और आज हम ऐसा होते हुए देख भी रहें हैं. भाई भाई को मार रहा है, चोरी, धोखाधड़ी, लूटपाट जैसी घटनाएँ(incident) दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही हैं.Kalyug Ka Ant Kab Hoga in Hindi | Kalyug History in Hindi

हम इस पोस्ट में गहराई से जानेंगे कि कलयुग के अंत में क्या होगा(end of kaliyug), और कैसे होगा कलयुग का अंत. परन्तु इससे पहले हम ये जान ले कि कलयुग की शुरुआत(Beginning) कब हुई.

Kalyug History in Hindi :- पुराणों के अनुसार चार युग हैं. सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और अंत(last) में आता है कलयुग. इस युग की शुरुआत(beginning) करीब 3000 ईसा पूर्व(BC) हुई थी. भगवान श्री कृष्ण(lord Shree Krishna) के पृथ्वी से जाने के पश्चात् ही कलयुग की शुरुआत हो चुकी थी.

पुराणों के अनुसार चारों युगों की अवधि(duration) बताई गयी हैं जो इस प्रकार है:-

पहला युग है, सतयुग जिसकी अवधि(duration) पुराणों के अनुसार करीब 17 लाख और 28 हजार वर्ष की बताई गयी है. जो सभी अन्य युगों से अधिक है.

दूसरा युग है, त्रेतायुग इस युग की लगभग 12 लाख और 96 हजार की अवधि(duration) पुराणों में वर्णित है. इस युग में ही श्री हरी श्री राम अवतार में धरती(earth) पर आये थे.

तीसरा युग द्वापरयुग है, द्वापरयुग में श्री हरी श्री कृष्ण के अवतार में धरती(earth) पर अवतरित हुए थे. इस युग की अवधि(duration) पुराणों के अनुसार करीब 8 लाख और 64 हजार वर्ष की कही गयी है.

चौथा और अंतिम(last) युग है कलयुग, भगवान श्री कृष्ण(Lord Shree Krishna) के बैकुन्ठ वापस लौटने के बाद से ही कलयुग का आरम्भ(begin) हो गया था. पुराणों के अनुसार कलयुग की अवधि(duration) सबसे कम बताई गयी है. पुराणों में इसकी अवधि(duration) केवल 4 लाख और 32 हजार वर्ष की ही बताई गयी है. (Kalyug Ka Ant Kab Hoga in Hindi)

चलिए अब जानते हैं. कि कलयुग(Kaliyug) में ऐसा किया होगा जो बाकि तीनो युगों में नहीं हुआ. | End of Kali Yuga Signs

आयु कम होगी

ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार कलयुग में मनुष्य(human) की आयु(age) बहुत ही कम हो जाएगी.  लोग 20 वर्ष की आयु(age) में वृद्ध(old) हो जायेंगे. 16 वर्ष की आयु(age) में ही लोगों के बाल सफ़ेद हो जायेंगे. यदि हम पुराने समय को याद करें तो लोग सौ वर्ष(100 years) से भी अधिक जीवित रहते थे, परन्तु अभी के समय में देखे तो आज मनुष्य(human) की औसतन उम्र(average age) 60 से 70 वर्ष(year) की रह गयी है. जैसे जैसे कलयुग का अंत(end) करीब आयेगा मनुष्य की आयु और कम होती चली जाएगी. (Kalyug History in Hindi)

गंगा सूख जाएगी

जैसे-जैसे कलयुग(kalyug) का समय(time) बीतेगा गंगा(Ganga River) सूख जाएगी और परम धाम बैकुन्ठ लौट जाएगी.

भोजन सामग्री(food material) जैसे अनाज, सब्जियां, फल इत्यादि सभी समाप्त(finished) हो जायेंगे. End of Kali Yuga Signs

Kalyug History in Hindi | Kalyug Ka Ant Kab Hoga in Hindi

देवी-देवता पृथ्वी छोड़ देंगे

कलयुग के जब दस हजार वर्ष(10,000 years) पूरे हो जायेंगे तब सभी देवी-देवता पृथ्वी लोक छोड़कर अपने धाम को प्रस्थान करेंगे. कोई भी पूजा-पाठ व्रत कीर्तन नहीं करेगा.

मनुष्य हिंसक होगा

धीरे-धीरे समय के साथ कलयुग में मनुष्य(human) का धर्म से विश्वास(trust) उठ जायेगा और वो पाप कर्म करने लगेगा. वो इतना हिंसक(violent) हो जायेंगे कि वो एक दुसरे को ही मारने(kill) लगेंगे. जो बलवान(strong) होगा वो निर्बल(week) पर राज करेगा, उन्हें प्रताड़ना देगा. मानवता(humanity) भूलकर एक दुसरे के शत्रु(enemy) बन उनकी हत्या(murder) करेंगे.

कलयुग जब अपने अंत समय में आयेगा तब पुरुष(male) स्त्री के अधीन होकर अपना जीवन(life) जियेगा. घर हो या बाहर स्त्रियों(females) का ही वर्चस्व होगा. पुरुष स्त्रियों के सामने नौकर(servant) बनकर रहेगा. मनुष्य(human) अपनी मर्यादा(limit) और शर्म को भूल कर पूरी तरह से भोग-विलास में लिप्त होकर पूरा जीवन व्यतीत करेगा. “Kalyug History in Hindi”

 

भगवान् लेंगे कल्कि अवतार

जब चारो तरफ हिंसा(violent) लोग एक दुसरे को मारेंगे(kill), लूटपाट करेंगे. अपराधियों(criminals) की संख्या इतनी हो जाएगी कि एक आम नागरिक(common man) का जीवन यापन करना कठिन(difficult) हो जायेगा. चारों ओर पाप ही पाप होगा. तब भगवान श्री हरी(Lord Shree Hari) एक विष्णुयशा नाम के ब्राह्मण के घर कल्कि अवतार लेंगे.

पुराणों के अनुसार भगवान् श्री हरि मात्र तीन दिनों में ही समस्त पृथ्वी(earth) से सभी पापियों और अधर्मियों का नाश कर धर्म की स्थापना करेंगे. Kalyug History in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *