Agrasen Ki Baoli Haunted Story in Hindi, जो आत्महत्या के लिए उकसाती है

Agrasen Ki Baoli Haunted Story in Hindi: दोस्तों दिल्ली राजा-महाराजाओं का स्थान रहा है, और उन्होंने अपने राज में दिल्ली में बहुत से ऐसे स्मारक बनवाए जो आज हम सब के लिए हैरान कर देने वाले हैं.

ये भी पढ़ें: Mandir की दीवोरों और पत्थरों पर कामोत्तेजक शिल्प्कलाये

ऐसे ही स्मारकों में से एक है अग्रसेन की बावली. इस जगह से कुछ समय पहले तक ज्यादा लोग परिचित नहीं थे परन्तु बॉलीवुड की फिल्म ‘पीके’ में अग्रसेन की बावली को दिखाया गया. तब से लोगो में यह स्थान ज्यादा प्रचलित हो गया है.agrasen ki baoli haunted story in hindi

Agrasen Ki Baoli Location | अग्रसेन की बावली कहाँ स्थित है?

 यह बावली राजधानी दिल्ली में कनाट प्लेस पर हेली रोड के समीप स्थित है. यह जगह इंडिया गेट से करीब 2 km और जंतर मंतर से करीब 1.5 km की दूरी पर है.

अग्रसेन की बावली में प्रवेश करने का समय सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक है. इस स्मारक में प्रवेश करने के लिए किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं है.

निर्माण काल और संरचना

अग्रसेन की बावली का निर्माण 14वीं शताब्दी में शौर्य वंश के राजा महाराज अग्रसेन ने कराया था. परन्तु अभी तक ऐसा कोई भी प्रमाण नही मिला है जिससे ये साबित हो सके कि इस अदभुत वास्तुकला का निर्माण किसने करवाया था.

यह बावली 60 मीटर लम्बी और 15 मीटर चौड़ी है. बावली में नीचे तक पहुचने के लिए 106 सीढियां बनाई गयी हैं. इसकी संरचना सीढ़ीनुमा कुए की तरह है. बावली के पश्चिम में तीन द्वार हैं. इसे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा संरक्षित किया गया है.

Agrasen Ki Baoli Haunted Story in Hindi, जो आत्महत्या के लिए उकसाती है

साल 2012 में अग्रसेन की बावली पर भारतीय डाक ने टिकेट भी जारी किया था. लाल बलुआ पत्थर से निर्मित यह बावली दिल्ली शहर की अन्य सभी बावलियों में बहतरीन है.

इतनी अदभुत संरचना और विशेषताओं के साथ इस बावली के साथ एक बड़ी ही दिलचस्प कहानी जुडी हुई है. अग्रसेन की बावली के बारे में लोगों की मान्यता है कि प्राचीन समय में यह बावली काले रंग के पानी से पूरी भरी हुई थी. और यह काला पानी लोगो को अपनी और आकर्षित करता है, तथा कुए में कूदने को विवश करता है.

Agrasen Ki Baoli Haunted Story in Hindi, जो आत्महत्या के लिए उकसाती है

लोग अग्रसेन की बावली को दिल्ली की सबसे डरावनी जगहों में से एक माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि, प्राचीन समय में इस कुए में काला पानी हुआ करता था जो लोगो को सम्मोहित कर उन्हें अपनी ओर आकर्षित करता है और आत्महत्या करने के लिए विवश करता है.

वर्तमान समय में यह कुआ पूरी तरह सूख चुका है और अग्रसेन की बावली में नीचे उतरने पर एक गहरी चुप्पी और अँधेरा दिखाई देता है. चमकादडों की चींखे बावली के माहौल को और भी भयानक बना देता है.

Agrasen Ki Baoli Haunted Story in Hindi, जो आत्महत्या के लिए उकसाती है

कुछ लोगों को यहाँ बुरी आत्मा होने का अहसास हुआ है उन्होंने यहाँ कुछ अजीब परछायिओं को देखा है.

कुछ लोगों ने तो यह भी कहा है कि किसी साये ने उनका पीछा किया, जिसके डर से वो यहाँ से निकल गए.

यदि आपके पास भी अग्रसेन की बावली से सम्बंधित कोई कहानी है तो हमें जरूर लिखे. Agrasen Ki Baoli Haunted Story in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *